TAJDHAM PAGALKHANA SHARIF

आरती १

|| ॐ नमो ताजुद्दीनाय नमः ||

ॐ नमो ताजुद्दीनाय ताजुद्दिनाय ताजुद्दिनाय नमो नमः
तुम ब्रह्मा , विष्णु, महेश्वर हो, तुम शेष गणेश दिवाकर हो, तव श्री महिमा है अपार अति, ताजुद्दीनाय नमः ताजुद्दीनाय नमः
तुम माता, पिता, बंधू, भाता हो, कई वलियो के जन्मदाता हो, तव श्री महिमा है अपार अति, ताजुद्दीनाय नमः ताजुद्दीनाय नमः
तुम जानत हो सबके मन का, प्रभु भुल गये क्यू मेरे मन का, तव श्री महिमा है अपार अति, ताजुद्दीनाय नमः ताजुद्दीनाय नमः
तुम पूरन ज्ञान प्रकाशक हो, तु सातो जहाँ के शहेनशा हो, तव श्री महिमा है अपार अति, ताजुद्दीनाय नमः ताजुद्दीनाय नमः
प्रभू नैना पडी मझधार मोरे, ताजुद्दीनाय बिना कौन पार करें, तव श्री महिमा है अपार अति, ताजुद्दीनाय नमः ताजुद्दीनाय नमः
प्रभू आतुर प्राण पुकार रहा, तव पद बिना मोरे कौन सहा, तव श्री महिमा है अपार अति, ताजुद्दीनाय नमः ताजुद्दीनाय नमः
तुम हो करुणा के धाम धन्य सेवक हैं ताजुल चैतन्य, तव श्री महिमा है अपार अति, ताजुद्दीनाय नमः ताजुद्दीनाय नमः